मंगलवार, 1 जनवरी 2013

मरद भोजपुरिया

झूठ ना बखाने जाने ,छूत -छात माने जाने
माने-जाने सबके ,ना जाने जी-हजुरिया
धुरिया चढ़ावे जाने ,पीठ ना देखावे जाने
दीठ ना लगावे जाने आन के बहुरिया
आन ना लडावे जाने ,जान के ना जान जाने
चले के उतान जाने तान के लउरिया।
बानी मर्दानी जाने चाल मस्तानी "भानु "
हो ला एक पानी के मरद भोजपुरिया।
     
                          ठाट ना बनावे जाने ,काट ना कटावे जाने
                          हाथ ना हिलावे ,चमकावे ना अंगुरिया
                          बात ना बनावे जाने ,बात साफ-साफ जाने ,
                          फट देना रांड ना त भर हाँथ चुरिया।
                          हठ में हमीर ,महाबीर बीर लठ में जे ,
                          बान्हे लट -पट कनपटी ले पगरिया
                          डाँटी के बनल "भानु" माटी के कसल उहे ,
                          खांटी ह जवान उमजल भोजपुरिया ।।

                                                                         स्व भुवनेश्वर प्रसाद श्रीवास्तव "भानु "                        

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें