शनिवार, 23 जुलाई 2011

कुछ भी मेरे पास नहीं है ................

कुछ भी मेरे पास नहीं है
कोई तजुर्बा खास नहीं  है

आपके इस अंदाजे-बयाँ में
बात तो है एहसास नहीं है

बैरागी बनने की   कोशिश
कोशिश है ,सन्यास नहीं है

एक ही घर में चुप-चुप रहना
साथ तो है ,सहवास   नहीं है

लेकर,लिखना,लिख कर देना                   
मुझको  ये   अभ्यास नहीं है   
                                          
                                    ......... पवन श्रीवास्तव 



3 टिप्‍पणियां:

  1. RAJIV, Ara Bihar/New Delhi23 जुलाई 2011 को 8:15 pm

    Bhaiya Pranam,
    Shabd bejuban hai kuchh kahun to kaise. Bus, itna ki bahut achha laga, bahut kam hai. ye panktiyan apake karib hone ka ahsas dilati hai.


    Rajiv Ara, Bihar /New Delhi

    उत्तर देंहटाएं
  2. Kya Bat=Jamane ke bahut ter khaye hai hum,
    Khairat Jo deta wahe lutta bhi hai.

    उत्तर देंहटाएं